Search This Website

Monday, October 16, 2017

शिव नगरी में पहली बार छोटी दीपावली को दिखेगा अद्‌भुत नजारा

 शिव नगरी में पहली बार छोटी दीपावली को दिखेगा अद्‌भुत नजारा



काशी नगरी में पहली बार ज्योति पर्व से एक दिन पहले छोटी दीपावली के दिन अद्‌भुत नजारा देखने को मिलेगा। प्रभु श्रीराम के 14 वर्ष के वनवास से लौटने के समय जैसा आयोजन काशी में नजर आएगा। थल से लेकर नभ तक सतरंगी छटा बिखरेगी।













वैसे तो बनारस में ज्योति पर्व हमेशा से ही बड़े धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन इस बार 18 अक्टूबर को छोटी दीपावली खास होगी।









प्रभु श्रीराम की नगरी आयोध्या में यूपी सरकार के पर्यटन विभाग ने सरयू नदी के तट पर बने राम की पौड़ी में 1.71 लाख दीप जलाने का रेकॉर्ड बनाने की तैयारी की है












तो बनारस में इस दिन के आयोजन का प्लान बीजेपी संगठन ने तैयार किया है।









इससे शहरी इलाके के 90 वॉर्डों के हजारों बीजेपी कार्यकर्ताओं संग सामाजिक संगठनों को सीधे तौर पर जोड़ा गया है।










होगा भव्य आयोजन : बीजेपी के महानगर समन्वयक चंद्रशेखर उपाध्याय ने बताया कि कोशिश यही है कि बनारस की छोटी दिवाली भी यादगार बने।





शहर के सभी प्रमुख चौराहों, महापुरुषों की प्रतिमाओं और गली-मोहल्लों के मुहानों पर कमल के फूल की रंगोली सजाने के साथ घरों में आटे से बने खास दीप जलाए जाएंगे। रंगोली सजाने के लिए करीब दो सौ जगहों का चयन किया गया है












शाम ढलते ही दीप जलने के समय हजारों पैराशूट नुमा बड़े गुब्बारे हर इलाके से आकाश में छोड़े जाएंगे। अलग तरीके के बाहर से मंगाए गए गुब्बारे की खेप 16 अक्टूबर तक बनारस पहुंचेगी।




पटाखे से दूरी : इस आयोजन को लेकर बीजेपी के काशी प्रांत कार्यालय में गुरुवार को हुई बैठक में पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई। मोहल्लों में रंगोली सजाने का जिम्मा वॉर्ड प्रमुखों को मिला है। तय हुआ कि छोटी दिवाली के दिन ठीक शाम 6 बजे एक साथ पूरे शहर में दीप जलने के साथ गुब्बारे आकाश में छोड़े जाएंगे।









खास तौर पर प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे से दूर रहने को कहा गया है। इस कार्यक्रम को बीजेपी संगठन की नगर निकाय चुनाव की तैयारी से भी जोड़कर देखा जा रहा है।



No comments:

Post a Comment