Search This Website

Wednesday, December 27, 2017

धर्मगुरुओं ने 1 जनवरी को नया साल मनाना बताया गलत

 धर्मगुरुओं ने 1 जनवरी को नया साल मनाना बताया गलत






 link :- अब रोज पाये facebook पर "मेरा देश India" की all (news)






10 दिनों के बाद नए साल के स्वागत कि सभी तैयारी कर रहे हैं। इधर हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्म गुरुओं ने 1 जनवरी को नए साल का जश्न मनाना गलत बताया है। 













देवबंद के धर्मगुरुओं ने कहना है कि 1 जनवरी को शुरू होने वाला नया साल अंग्रेजों का त्योहार है। 









इसे हिंदुस्तान में रहने वालों को नहीं मनाना चाहिए।













मदरसा जामिया हुसैनिया के वरिष्ठ उस्ताद मौलाना मुफ्ती तारिक कासमी का कहना है कि इस्लाम में एक जनवरी पर नए साल की मुबारकबाद देना या फिर जश्न मनाना जायज नहीं है। 










इस्लाम में जन्मदिन मनाना या केक काटना भी नाजायज बताया गया है। 



  इसे भी पढ़ें :-   दुनिया का सबसे महंगा जूता, कीमत इनती की खरीद सकते हैं कई BMW कार









उन्होंने कहा कि जो लोग इस्लाम धर्म से जुड़े हैं उन्हें इस तरह की परंपराओं से परहेज रखना चाहिए। कहा कि इस्लाम धर्म में इस चीज की कतई इजाजत नहीं है।









 मुफ्ती तारिक ने कहा कि इस्लाम धर्म में नया वर्ष मोहर्रम माह से आरंभ होता है। 














देवबंद के श्री त्रिपुर मां बाला सुंदरी देवी मंदिर सेवा ट्रस्ट के अध्यक्ष पं. सतेंद्र शर्मा ने कहा कि 








हिंदू शास्त्रों में नए साल की शुरुआत चैत्र के नवरात्र के पहले दिन होती है। 










उसी दिन से नया नव विक्रम संवत शुरू होता है। हिंदुओं को उसी दिन नया साल मनाना चाहिए। 





No comments:

Post a Comment