Search This Website

Saturday, December 16, 2017

अगर हिंदुस्तान के ये खूबसूरत स्थान नहीं देखे तो कुछ नहीं देखा

 अगर हिंदुस्तान के ये खूबसूरत स्थान नहीं देखे तो कुछ नहीं देखा





मनुष्यों को रहस्य और अज्ञात हमेशा से ही आकर्षित करते रहे हैं और सत्य को खोजना उसका पुराना शगल रहा है। इंडिया को खूबसूरत के साथ-साथ रहस्यमयी देश का भी दर्जा प्राप्त है। 










इंडिया के अलग-अलग और उम्दा जगहों से कुछ बेहद रहस्यमयी किस्से-कहानियां भी जुड़े हुए है।








भारत इतना बड़ा देश है कि पूरी ज़िन्दगी लगा दीजिये, फिर भी हर गली, हर कूचा नहीं देख पाएँगे हम!हज़ारों शहर, छोटे-बड़े गाँव, पहाड़, नदियां, क्या-क्या देख सकते हैं छोटी-सी ज़िन्दगी में?लेकिन आज हम कोशिश कर रहे हैं 












आप को ऐसे अनदेखे और अनोखे हिस्से दिखाने की जिनके बारे में आपने शायद ही सुना होगा या सुना होगा तो शायद ही देखी होंगी







 दरीबा कलां


दिल्ली के चाँदनी चौक में यह गली है जहाँ एशिया का सबसे बड़ा ज़ेवरों का बाज़ार है| लोग आम तौर पर चाँदनी चौक के खाने-पीने, कपड़ों के बारे में जानते हैं लेकिन इस गली में आके देखिये तो एक अलग ही दुनिया नज़र आएगी! शाह जहान के ज़माने से इस गली में सोने, चांदी, कीमती पत्थरों का व्यापार होता आया है 










और आज भी इसकी चमक कम नहीं हुई एक बार ज़रूर जाइए और फिर से पुरानी दिल्ली के ऐतिहासिक दिनों को जी कर देखिये







कसारा घाट


मुंबई-नासिक के बीच यह घाट यूँ तो हिमालय की बराबरी नहीं कर सकते लेकिन बरसात के मौसम में इनकी ख़ूबसूरती किसी जन्नत से कम नहीं है! पहाड़ों को काट के बनाया गया रास्ता स्वर्ग की सीढ़ी की तरह लगता है 














और जब मानसून में बादल आपका चेहरा चूमने आते हैं तो लगता है कि जीवन बस यहीं बिता लिया जाए







खजुराहो को जाता रास्ता


वैसे तो झाँसी से खजुराहो का फ़ासला सिर्फ 176 किलोमीटर का है, लेकिन रास्ते में एक बड़ी ही ख़ास जगह आती है, नौगांग! ब्रिटिश राज में यहाँ आर्मी का ट्रेनिंग कॉलेज हुआ करता था जो 1924 में शुरू हुआ और 1964 में पुणे शिफ्ट हो गया| लेकिन इस छोटी सी जगह में आर्मी की कैंटोनमेंट उन्नीसवीं शताब्दी से स्थापित है!










 इतना ही नहीं, वहाँ एक चर्च भी है जो 1869 में बना था और आज भी वहाँ हर रविवार को पूजा-अर्चना होती है! एक शांतिप्रिय दिन वहाँ बिताया जा सकता है, खजुराहो की सुंदरता का रस चखने से पहले





No comments:

Post a Comment