Search This Website

Tuesday, February 27, 2018

जानें कितने फीसद भारतीय हैं इस बीमारी से पीड़ित

  जानें कितने फीसद भारतीय हैं इस बीमारी से पीड़ित





Open this link :- अब रोज पाये facebook पर "मेरा देश India" की all (news)




अनियमित दिनचर्या और खानपान का नुकसान भारतीयों को उठाना पड़ रहा है। इसके दुष्परिणाम ये हैं कि भारत मधुमेह और उच्च रक्तचाप की काफी उच्च दरों से जूझ रहा है। देश के 13 लाख से अधिक लोगों पर किए अध्ययन में यह बात सामने आई है। यह अपनी तरह का पहला एक राष्ट्रीय स्तर का अध्ययन है। इस अध्ययन से जुड़े शोधकर्ताओं ने कहा कि देश के सभी भौगोलिक क्षेत्रों और सामाजिक- जनसांख्यिकी समूहों में मधुमेह और उच्च रक्तचाप की दरें अधेड़ उम्र के लोगों और वृद्धों में अधिक हैं।













युवा भी हैं गिरफ्त में 


हावर्ड टी एच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं की अगुवाई में हुए इस अध्ययन में नवयुवकों में भी उच्च रक्तचाप की ऊंची दर पाई गई।










स्थिति को समझना अत्यावश्यक 


जामा इंटर्नल मेडिसिन नामक जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन के मुख्य लेखक पास्कल गेल्डसेत्जर के मुताबिक, मधुमेह और उच्च रक्तचाप की भारत जैसे बड़े देश में क्या स्थिति है, इसे समझना इन बीमारियों के रोकथाम, जांच और उपचार सेवाओं की लिहाज से अत्यावश्यक है।














गैर संक्रामक बीमारियों की दरें बढ़ीं 


शोधकर्ताओं के मुताबिक, विश्व की जनसंख्या का छठां हिस्सा भारत में रहता है और वहां महामारी विज्ञान प्रवृति बदलाव से गुजर रहा है। गैर संक्रामक बीमारियों की दरें हाल के दशकों में बढ़ गई हैं और आगे भी बढ़ ही सकती हैं क्योंकि भारत में अधिक उम्र के लोगों की संख्या बढ़ रही है। इसके अलावा शहरीकरण भी बढ़ रहा है।






यह था उद्देश्य 

शोधकर्ताओं के मुताबिक, भारत में मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों की राज्यों, ग्रामीण बनाम शहरी क्षेत्रों, सामाजिक जनसांख्यिकी लक्षणों के हिसाब से क्या स्थिति है यह जानने के उद्देश्य से उन्होंने यह अध्ययन किया










इस तरह किया अध्ययन 


शोधकर्ताओं के मुताबिक, उन्होंने 2012-2014 के दौरान 1,320,555 वयस्कों के आंकड़े एकत्र किए थे। अध्ययन से पता चला कि ये दोनों बीमारियां सभी भौगोलिक क्षेत्रों और सामाजिक जनसांख्यिक क्षेत्रों में हैं।











यह आया सामने




अध्ययन में सामने आया कि भारत में 6.1 फीसद महिलाएं और 6.5 फीसद पुरुष मधुमेह से पीड़ित हैं। इसके अलावा 20 फीसद महिलाएं और 24.5 फीसद पुरुष उच्च रक्तचाप की गिरफ्त में हैं।














इन राज्यों के लोग हैं ज्यादा पीड़ित


गुजरात के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ में फैकल्टी और अध्ययन के सह लेखक आशीष अवस्थी के मुताबिक, आंध्रप्रदेश, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, दिल्ली और पश्चिम बंगाल में ज्यादा लोग मधुमेह से ग्रसित हैं। 









वहीं, उच्च रक्तचाप की बात करें तो यह पंजाब, हिमाचल प्रदेश, 









केरल, सिक्किम और नागालैंड के लोगों में अधिक है।  





Read More »

होली पर मुश्किल हो सकता है घर जाना, जानिए किस ट्रेन में कितनी लंबी वेटिंग

होली पर मुश्किल हो सकता है घर जाना, जानिए किस ट्रेन में कितनी लंबी वेटिंग






होली के पर्व पर इस बार लोगों का घर जाना मुश्किल हो सकता है। ट्रेनों में वेटिंग की संख्या बढ़ती जा रही है,











 जिसके चलते परेशानी उठानी पड़ेगी। ट्रेनों में जहां एक ओर वेटिंग बढ़ गई है वहीं, रेलवे प्रबंधन की ओर से कोई नई ट्रेन नहीं चलाई गई और न ही अभी तक अतिरिक्त कोच लगाए गए हैं।  







इस कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शहर के वर्ल्ड क्लास स्टेशन से  चलने वाली ट्रेनों में वेटिंग लगातार बढ़ती जा रही है।











लखनऊ, कानपुर, बनारस, डिब्रूगढ़ और जयपुर के लिए जाने वाली ट्रेनों की वेटिंग 150 से 250  तक पहुंच गई है। छह से 11 मार्च तक यह वेटिंग बनी हुई  है। 









रेलवे स्टेशन की टिकट खिड़की पर टिकट लेने वालों की लाइन छोटी नहीं हो रही है।   ऊंचाहार एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - लखनऊ एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस, चंडीगढ़- डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - पाटलीपुत्र एक्सप्रेस में भी वेटिंग 150 के पार पहुंच गई है।












चंडीगढ़ से डिब्रूगढ़ जाने वाली गाड़ी संख्या 15904 की 9 मार्च तक 263 वेंटिंग लिस्ट पंहुच गई है। चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से चलने वाली गाड़ी संख्या 14218 ऊंचाहार एक्सप्रेस भी बुधवार से दोबारा चलनी शुरू हो गई है। 








रेलवे काउंटर पर बुकिंग कराने आए अविनाश सिंह ने बताया कि कानुपर के लिए ऊंचाहार सहित सभी ट्रेनों में वेटिंग 150 के ऊपर पहुंच गई है। अभी तक रेलवे की ओर से कोई अतिरिक्त कोच और स्पेशल ट्रेन चलाने का ऐलान नही कि या गया है।











गाड़ी संख्या------- वेटिंग क्रमांक संख्या


ऊंचाहार एक्सप्रेस (14218 )-----150 से 200 वेटिंग
चंडीगढ़- डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस (15904)---- 150 से 280
चंडीगढ़ - सहारनपुर - लखनऊ एक्सप्रेस (15012)----- 150 से 200 वेटिंग
चंडीगढ़- लखनऊ एक्सप्रेस(12232)-------- 170 से 250 वेटिंग
नोट यह वेटिंग 6 मार्च से 11 मार्च तक है








यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए होली स्पेशल चंडीगढ़ -गोरखपुर एक्सप्रेस साप्ताहिक ट्रेन 9 मार्च से चलाई जाएगी।  इसकी बुकिंग शुरू  की गई है।  









वहीं अन्य ट्रेनों में भीड़ को देखते हुए अतिरिक्त कोच लगाए जाएंगे।





Read More »

Wednesday, February 21, 2018

बाजार में बिकने वाले नकली सामान की अब खैर नहीं, सिर्फ एक SMS से हो जाएगी पहचान

बाजार में बिकने वाले नकली सामान की अब खैर नहीं, सिर्फ एक SMS से हो जाएगी पहचान





 बाजार में नकली उत्पादों से परेशान लोगों के लिये अच्छी खबर है। अब आप सिर्फ SMS भेजकर यह पता लगा सकते हैं कि उत्पाद असली है या नकली। अमेरिकी कंपनी फार्मासेक्योर ने भारत समेत कुछ देशों में संबंधित कंपनियों के साथ मिलकर इस दिशा में पहल की है। 










शुरूआत में कंपनी ने यह सुविधा दवाओं के मामले में शुरू की थी। बाद में रोजमर्रा के उपयोग के सामान (एफएमसीजी), इलेक्ट्रानिक्स, सौंदर्य प्रसाधन जैसे उत्पादों के लिये यह सेवा शुरू की गयी। 









इसके लिये कंपनी ने प्रोडक्टसेक्योर के नाम से एक अलग इकाई बनायी। 












नकली सामान पर लग जाएगी नकेल


कंपनी के अनुसार आप SMS के अलावा मोबाइल एप भी पर उत्पाद का ‘बारकोड’ डालकर या वेबसाइट के जरिये यह पता लगा सकते हैं कि वस्तु असली है 






या नकली। फार्मासेक्योर के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी नकूल पसरीचा ने इस बारे में बताया कि भारत समेत पूरी दुनिया में नकली उत्पाद बढ़ रहे हैं। 









इससे न केवल ब्रांड की विश्वसनीयता और कंपनी की आय प्रभावित होती है, बल्कि सरकारों को करोडों रुपये के कर का भी नुकसान होता है। 






नकली उत्पाद लोगों के स्वास्थ्य एवं सुरक्षा के लिहाज से भी खतरनाक है।














ऐसे होगी असली और नकली की जानकारी

उन्होंने उद्योग मंडल फिक्की के एक अध्ययन का हवाला देते हुए बताया कि नकली उत्पादों के कारण भारत सरकार को लगभग 39,000 करोड रुपये के कर राजस्व का नुकसान होता है। 







SMS अथवा एप के काम करने के तरीके के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि उनकी संस्था कंपनियों के साथ गठजोड़ कर उत्पाद के प्रत्येक बैच पर विशिष्ट कोड डालते हैं। इसके अलावा बैच संख्या, वस्तु के खराब (एक्सपायरी) होने की तारीख का भी उस पर जिक्र होता है। साथ ही हम उस पर फोन नंबर डालते हैं। ग्राहक संबंधित उत्पाद के कोड को टाइप कर अगर उस नंबर पर SMS भेजता है तो उसके मोबाइल पर तुरंत संदेश आता है कि वह उत्पाद असली है या नकली।









अभी इस तरह के सामान की मिलेगी जानकारी


पसरीचा ने कहा कि कंपनी जो भी जानकारी साझा करना चाहेगी, यानी अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी), ‘एक्सपायरी’ तारीख आदि समेत सभी जानकारी SMS के जरिये ग्राहकों को मिल जाएगी।  यह पूछे जाने पर कि भारत में इसको लेकर किन—किन कंपनियों से गठजोड हुआ है, उन्होंने कहा कि फिलहाल तार और केबल बनाने वाली पालीकैब, औषधि कंपनी यूनिकेम तथा राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) के साथ गठजोड हुआ है। इसके अलावा रोजमर्रा के उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों, टिकाऊ उपभोक्ता सामान, इलेक्ट्रानिक सामान तथा वाहनों के कल—पुर्जे बनाने वाली इकाइयों के साथ भी गठजोड़ के लिये बातचीत चल रही है। 




Read More »

‘खतरनाक’ पिच पर भी जमे रहाणे-भुवनेश्वर, टीम ने खड़े होकर बजाईं तालियां, वीरू ने बताया- दबंग

 ‘खतरनाक’ पिच पर भी जमे रहाणे-भुवनेश्वर, टीम ने खड़े होकर बजाईं तालियां, वीरू ने बताया- दबंग







दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वॉन्डर्स के पिच पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच का परिणाम जो भी हो, लेकिन इसे टीम इंडिया के बल्लेबाजों की दिलेरी के तौर पर याद रखा जाएगा। एक ऐसी पिच, जिस पर बल्लेबाजी जारी रखने के लिए अंपायर भी आश्वस्त नहीं थे, 













उस पर टीम इंडिया ने न केवल बल्लेबाजी की, बल्कि एक ऐसा स्कोर खड़ा कर दिया, जिसे हासिल करने में साउथ अफ्रीकी टीम को बड़ी मुश्किलें आनी वाली हैं।










 खबर लिखे जाने तक टीम इंडिया ने 8 विकेट खोकर 238 रन बना लिए थे। तीसरी पारी के शुरुआत से ही पिच पर असमान उछाल नजर आई। 













कई बार गेंद टप्पा खाने के बाद बिलकुल नीचे रह जाती तो कई बार ऊपर आकर बल्लेबाजों को चोटिल भी किया। मुरली विजय, विराट कोहली, रहाणे को गेंद लगने की वजह से कई बार चोटें तक आई, लेकिन वे डटे रहे। विराट कोहली 41 रन बनाकर रबाडा की गेंद पर बोल्ड हुए। उनके बाद भुवनेश्वर ने मोर्चा संभाला और असमान उछाल वाली इस पिच पर बल्लेबाजी जारी रखी।








पिच पर बड़ी-बड़ी दरारें साफ नजर आईं। कमेंटेटर्स से लेकर तमाम क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने पिच की जमकर आलोचना की। एक वक्त तो ऐसा आया कि जब अंपायर ने बल्लेबाजों को बुलाकर उनकी राय पूछी। रहाणे ने अंपायर के कंधे पर हाथ रखा और मानो कहा कि उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। 









उधर, कप्तान कोहली ने भी ड्रेसिंग रूम से इशारा किया कि बल्लेबाजी जारी रहेगी। इसके बाद, बल्लेबाजों ने लगातार रन बनाना जारी रखा।








शमी ने उतरते ही छक्का जड़ा, पूरे पूरे मैच का भी पहला छक्का था। कोहली जहां ड्रेसिंग रूम में बेहद खुश नजर आए, वहीं टि्वटर यूजर्स ने भी रहाणे के तारीफों के पुल बांध दिए। 











फैंस ने पहले दो टेस्ट मैचों में रहाणे को ड्रॉप करने के लिए सिलेक्टरों को कोसा। वहीं, बहुत सारे क्रिकेट फैंस ने विराट कोहली की बल्लेबाजी की भी जमकर तारीफ की। पूर्व क्रिकेटर सहवाग भी खुद को रोक नहीं पाए। 






उन्होंने रहाणे और भुनवेश्वर को ‘दबंग’ बताया। 






रहाणे जब 48 रन बनाकर ड्रेसिंग रूम लौटे तो पूरी टीम इंडिया ने खड़े होकर उनके लिए तालियां बजाईं।





Read More »