Search This Website

Tuesday, February 27, 2018

होली पर मुश्किल हो सकता है घर जाना, जानिए किस ट्रेन में कितनी लंबी वेटिंग

होली पर मुश्किल हो सकता है घर जाना, जानिए किस ट्रेन में कितनी लंबी वेटिंग






होली के पर्व पर इस बार लोगों का घर जाना मुश्किल हो सकता है। ट्रेनों में वेटिंग की संख्या बढ़ती जा रही है,











 जिसके चलते परेशानी उठानी पड़ेगी। ट्रेनों में जहां एक ओर वेटिंग बढ़ गई है वहीं, रेलवे प्रबंधन की ओर से कोई नई ट्रेन नहीं चलाई गई और न ही अभी तक अतिरिक्त कोच लगाए गए हैं।  







इस कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शहर के वर्ल्ड क्लास स्टेशन से  चलने वाली ट्रेनों में वेटिंग लगातार बढ़ती जा रही है।











लखनऊ, कानपुर, बनारस, डिब्रूगढ़ और जयपुर के लिए जाने वाली ट्रेनों की वेटिंग 150 से 250  तक पहुंच गई है। छह से 11 मार्च तक यह वेटिंग बनी हुई  है। 









रेलवे स्टेशन की टिकट खिड़की पर टिकट लेने वालों की लाइन छोटी नहीं हो रही है।   ऊंचाहार एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - लखनऊ एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस, चंडीगढ़- डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस, चंडीगढ़ - पाटलीपुत्र एक्सप्रेस में भी वेटिंग 150 के पार पहुंच गई है।












चंडीगढ़ से डिब्रूगढ़ जाने वाली गाड़ी संख्या 15904 की 9 मार्च तक 263 वेंटिंग लिस्ट पंहुच गई है। चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से चलने वाली गाड़ी संख्या 14218 ऊंचाहार एक्सप्रेस भी बुधवार से दोबारा चलनी शुरू हो गई है। 








रेलवे काउंटर पर बुकिंग कराने आए अविनाश सिंह ने बताया कि कानुपर के लिए ऊंचाहार सहित सभी ट्रेनों में वेटिंग 150 के ऊपर पहुंच गई है। अभी तक रेलवे की ओर से कोई अतिरिक्त कोच और स्पेशल ट्रेन चलाने का ऐलान नही कि या गया है।











गाड़ी संख्या------- वेटिंग क्रमांक संख्या


ऊंचाहार एक्सप्रेस (14218 )-----150 से 200 वेटिंग
चंडीगढ़- डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस (15904)---- 150 से 280
चंडीगढ़ - सहारनपुर - लखनऊ एक्सप्रेस (15012)----- 150 से 200 वेटिंग
चंडीगढ़- लखनऊ एक्सप्रेस(12232)-------- 170 से 250 वेटिंग
नोट यह वेटिंग 6 मार्च से 11 मार्च तक है








यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए होली स्पेशल चंडीगढ़ -गोरखपुर एक्सप्रेस साप्ताहिक ट्रेन 9 मार्च से चलाई जाएगी।  इसकी बुकिंग शुरू  की गई है।  









वहीं अन्य ट्रेनों में भीड़ को देखते हुए अतिरिक्त कोच लगाए जाएंगे।





No comments:

Post a Comment