Search This Website

Monday, April 2, 2018

2 अप्रैल को होने वाली डॉक्टरों की हड़ताल टली, नड्डा ने आईएमए अध्यक्ष को एनएमसी बिल पर चर्चा के लिए बुलाया

2 अप्रैल को होने वाली डॉक्टरों की हड़ताल टली, नड्डा ने आईएमए अध्यक्ष को एनएमसी बिल पर चर्चा के लिए बुलाया




इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने फिलहाल दो अप्रैल को होने वाली देशव्यापी हड़ताल टाल दी है। 








ऐसा स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा द्वारा उन्हें एनएमसी बिल पर चर्चा के लिए बुलाने के बाद किया गया है। 

 





यूनाइटेड रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. अंकित ओम ने बताया कि फिलहाल इस हड़ताल को टाल दिया गया। 












इस बावत आईएमए के अध्यक्ष रवि वानखेडकर को जेपी नड्डा से दो अप्रैल को दो बजे मिलने जाएंगे, उन्होंने बताया कि एनएमसी बिल में सरकार ने दस में से 4 मांगों को मान लिया है। 




रवि वानखेड़कर ने बताया कि वह अलग से एक्जिट एक्जाम न होने और ब्रिज कोर्स करने के बाद आयुष डॉक्टरों को एलोपैथी प्रैक्टिस करने के प्रावधान खत्म करने का वह स्वागत करते हैं। 







वहीं सरकार द्वारा 50 फीसदी सीटें पर नियंत्रण करने का प्रावधान गरीबों के हित में नहीं होगा।







डॉ. रवि ने कहा कि उन्हें बिल की कॉपी नहीं मिल सकी है, ऐसे में वह बिल पढ़कर इस पर चर्चा करेंगे। वहीं एम्स आरडीए के अध्यक्ष और आईएमए की यूथ विंग के अध्यक्ष डॉ. हरजीत भाटी ने बताया है कि अब दो अप्रैल को हड़ताल के बजाए धरना प्रदर्शन होगा। 












वह दो अप्रैल को बिल की प्रति का इंतजार कर रहे हैं। उनका मुख्य मुद्दा डॉक्टरों के साथ मारपीट, परीक्षा में धांधली पर ठोस कदम, प्राइवेट कॉलेज की सीटों बढ़ाये पर है। उनका कहना है कि देश भर के मेडिकल कॉलेज, छात्र पूरे देश में 12 बजे से दो बजे के बीच करेंगे।








वहीं आईएमए के संयुक्त सचिव डॉ. अनिल गोयल ने बताया कि आईएमए ने इस पूरी हड़ताल पर समर्थन दिया है। 








वहीं फोरडा के अध्यक्ष विवेक चौकसे ने बताया कि इस बावत अपनी आगे की योजना के लिए  शनिवार को बैठक की जाएगी, वन नेशन वन पे पर उनकी लड़ाई जारी रहेगी।





No comments:

Post a Comment