Search This Website

Showing posts with label Animals. Show all posts
Showing posts with label Animals. Show all posts

Thursday, April 26, 2018

दुनिया की ऐसी चीटियां जो खुद को उड़ा लेती हैं और रिसर्च में नाम मिला है फिदायीन, हैं बेहद खतरनाक

दुनिया की ऐसी चीटियां जो खुद को उड़ा लेती हैं और रिसर्च में नाम मिला है फिदायीन, हैं बेहद खतरनाक




नन्हीं चीटियों को उनकी मेहनत की वजह से जाना जाता है। वो धुन की पक्की होती हैं और बिना काम पूरा किए नहीं रुकतीं। 










इसके अलावा उनकी तारीफ़ इसलिए भी होती है कि वो खुद काफी छोटी होने के बावजूद अपने से कई गुना ज्यादा वजन उठाकर ले जाती हैं। चीटियों का सामाजिक ताना-बाना भी गजब का है, लेकिन अब ऐसी खबर आई है जो आपको हैरान कर सकती है। 

 






दुनिया को अब ऐसी चीटियों के बारे में पता चला है कि जो शहादत देती हैं। ये चीटियां फिदायीन हमलावर की तरह खुद में धमाका कर लेती हैं।













जी हां, आपने सही पढ़ा। न्यूयॉर्क टाइम्स ने जर्नल जूकीज में छपी स्टडी के हवाले से बताया है कि ब्रुनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टडीज सेंटर के सामने पेड़ों के करीब चीटियों के ऐसे कई घर हैं, जो अपने घर पर हमला होने की सूरत में अपनी जान देने से भी पीछे नहीं हटतीं




इन चीटियों को धमाका करने की खास प्रवृति की वजह से कोलोबोपसिस एक्सप्लोडेंस कहा जाता है।







जब इनके घोंसलों पर हमला या अतिक्रमण किया जाता है तो वो अपने पेट में धमाका कर लेती हैं। ऐसा करने से उनके पेट से चिपचिपा, चमकीला, पीला फ्लूइड निकलता है, जो जहरीला होता है।








जिस तरह मधुमक्खी डंक मारने के बाद दम तोड़ देती है, उसी तरह ये चींटियां भी अपनी जान दे देती हैं।













लेकिन उनकी ये शहादत कॉलोनी को बचा लेती है। वैज्ञानिक खुद फटने वाली इन चीटियों के बारे में दो सौ साल से ज्यादा वक्त से जानते हैं 







 और सबसे पहले 1916 में इनके बारे में लिखा गया था। लेकिन साल 1935 से इस समूह की चींटियों को कोई आधिकारिक नाम नहीं दिया गया था।




Read More »

Monday, November 13, 2017

समलैंगिक शेरों की संबंध बनाते तस्वीरें वायरल, अफसरों ने कहा-इंसानों की सोहबत का हो सकता है असर

 समलैंगिक शेरों की संबंध बनाते तस्वीरें वायरल, अफसरों ने कहा-इंसानों की सोहबत का हो सकता है असर




केन्या से इन दिनों शेरों की एक तस्वीर तेजी के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि इस तस्वीर में दिखने वाले ये दोनों शेर समलैंगिक हैं। शहर के नेशनल पार्क में शेर की इन तस्वीरों को कई लोगों ने आपत्तिजनक बताया है।












केन्या में टीवी और फिल्म सेंसरशिप की देख-रेख करने वाले डॉ. एजेकील मुटुआ (Dr Ezekiel Mutua)ने शेरों की इन हरकतों पर सवाल खड़े किए हैं।








उन्होंने कहा कि इन शेरों ने समलैंगिकता कैसे हासिल की। हालांकि, डॉ. मुटुआ (Dr Mutua) ने इस बात की पुष्टि करने के लिए ये दोनों शेर मेल ही है अधिकारियों को जांच के आदेश दिए हैं।













द केन्या फिल्म क्लासिफिकेशन बोर्ड (KFCB) के चीफ एग्जुयिक्टिव डॉ. मुटुआ (Dr Mutua) ने फोटोग्राफर पॉल गोल्डस्टीन(Paul Goldstein) द्वारा खींची गई इस तस्वीर को आपत्तिजनक बताया है।







बता दें कि फोटोग्राफर पॉल गोल्डस्टीन ने इस तस्वीर को केन्या के Masai Mara ट्रिप के दौरान खींचा था। पॉल के मुताबिक जब उन्होंने इस तस्वीर को कैमरे में कैद किया था तो ऐसा लग रहा था कि एक शेर दूसरे शेर के सिर पर अपना सिर रखकर रिलेक्स कर रहा है। 













लेकिन करीब से देखने पर पता चलता है कि ये मामला कुछ और ही है।








वहीं केन्या के अफसरों का कहना है कि ये कुछ आदमियों की वजह से हो सकता है।













अफसरों ने कहा कि आदमियों में जिस तरह से समलैंगिकता बढ़ता जा रहा है। ऐसे में उनका असर जानवरों पर देखने को मिल रहा है।








वहीं डॉ. मुटुआ ने इस मामले की जांच सख्ती के साथ करने का आदेश दिया है।









ताकि सच का पता जल्द से जल्द चल सकें।




Read More »

Thursday, November 9, 2017

50 साल तक लोहे की जंजीरों में बंधा था ये हाथी, हालत देख भर आएंगी आंखें

 50 साल तक लोहे की जंजीरों में बंधा था ये हाथी, हालत देख भर आएंगी आंखें


हाथियों को कई जमाने से सामान ढोने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। जब इसके लिए गाड़ियां और मशीन्स बन गए तो हाथी को उनके दांत और चमड़े के लिए मारा जाना शुरू किया गया।










आज भी कई इलाकों में हाथी को महावत अपने इशारों पर चलाते हैं। कुछ महावत हाथियों को बदतर हालत में रखते हैं।






ऐसा ही एक मामला भारत से सामने आया था, जिसमें हाथी की मदद करने के लिए विदेशी ग्रुप को सामने आना पड़ा था।








मामला भारत के उत्तर प्रदेश का है। यहां एक हाथी को महावत ने 50 साल से जंजीर में बांधकर रखा था






उसपर काफी जुल्म किए जाते थे। इस घटना की जानकारी UK में जानवरों के लिए काम करने वाले एक आर्गेनाईजेशन को पड़ी।








उन्होंने भारत आकर इस मामले में दखल दिया और हाथी को वहां से मथुरा के एनिमल केयर सेंटर में शिफ्ट करवा दिया। हाथी को जिस हाल में रखा गया था, उसे देख आपकी भी आंखें भर आएंगी।






27 लोगों का गुलाम रह चुका था हाथी

51 साल के इस हाथी का नाम राजू है। बचाए जाने से पहले राजू अलग-अलग 27 लोगों का गुलाम रह चुका था। उसे बेड़ियों में जकड़ कर रखा जाता था।











 रेस्क्यू से पहले टीम ने दो दिन तक राजू पर नजर रखी। राजू को ना तो समय से खाना दिया जाता था ना ही आराम करने दिया जाता था।








उससे लगातार काम करवाया जाता था। भूखा राजू प्लास्टिक और पेपर्स खाने लगा था।








आधी रात छुड़ाया गया


टीम ने आधी रात को राजू को आजाद करवाया। उसके पैरों में पड़ी बेडिय़ां इतनी टाइट थी कि उसकी स्किन उससे कटने लगी थी। उसे वहां से मथुरा शिफ्ट किया गया, जहां आज राजू स्वस्थ और खुश है। जिस दिन राजू को आजाद करवाया गया, उसी दिन उसने अपना 51वां जन्मदिन मनाया था।




Read More »

एक तेंदुए को पकड़ने में लगे 200 लोग, यहां का है मामला

 एक तेंदुए को पकड़ने में लगे 200 लोग, यहां का है मामला



तेंदुए आने से मची अफरातफरी


जंगल में घूमने-फिरने वाले खूंखार जानवर जब रिहायशी इलाके में घुस आएं तो खतरा काफी बढ़ जाता है। हाल ही में भारत की सबसे बड़ी कार फैक्‍ट्री में एक तेंदुए के घुस आने से हलचल मच गई। मामला शुक्रवार का है,










मानेसर स्‍थित मारुति सुजुकी की फैक्‍ट्री में सुबह-सुबह एक तेंदुए के आ जाने की खबर ने खलबली मचा दी।







बताते हैं कि फैक्‍ट्री का गेट खुला होने के चलते एक तेंदुआ अंदर घुस आया। फैक्‍ट्री इतनी बड़ी है कि पहले तो किसी की नजर तेंदुए पर नहीं पड़ी।










लेकिन जैसे ही एक कर्मचारी ने उसे देखा वह भागता हुआ अन्‍य कर्मियों के पास पहुंचा।








 इससे पहले कि तेंदुआ किसी पर हमला करता आनन-फानन फैक्‍ट्री खाली करा दी गई।












200 लोगों ने 36 घंटे में पकड़ पाया



सूचना पाकर पुलिस के साथ-साथ वाइल्‍डलाइफ टीम तेंदुए को पकड़ने पहुंची।








शुरुआत में वन विभाग के कर्मचारियों को काफी मशक्‍कत करनी पड़ी। करीब 36 घंटे बाद तेंदुए पकड़ में आया। बताते हैं










कि वन विभाग के कर्मचारियों ने जिंदा बकरी का लालच देकर तेंदुए को अपने जाल में फंसाया।








इस पूरे घटनाक्रम में किसी के हताहत होने के खबर नहीं है।











हालांकि तेंदुए को पकड़ने में करीब 200 लोग लगे, तब जाकर उसे जाल में बंद किया जा सका।




Read More »

Saturday, November 4, 2017

इस शख्स को मगरमच्छ के सामने कलाकारी दिखाना पड़ा महंगा, हाथ को जबड़े में दबाकर झकझोरा, फिर किए दो टुकड़े

 इस शख्स को मगरमच्छ के सामने कलाकारी दिखाना पड़ा महंगा, हाथ को जबड़े में दबाकर झकझोरा, फिर किए दो टुकड़े


खतरनाक जानवारों से खिलवाड़ करना कभी-कभी बहुत घातक सिद्ध होता है। यह जानवर अपने मालिक या फिर हैंडलर को भी नहीं छोड़ते हैं। 











कुछ ऐसा ही थाईलैंड में नए साल पर देखने को मिला। यहां लोगों को करतब दिखाने के दौरान एक हैंडलर ने मगमच्छ के मुंह में हाथ डाल दिया। 







अचानक मगमच्छ ने जबड़े में उसका हाथ दबा लिया और उसे दो टुकड़ों में कर दिया। इस दौरान वहां मौजूद लोगों के बीच चीख-पुकार मच गई। यह मामला थाईलैंड के नाखोन सवान में क्रोकोडाइल के शो में सामने आया।










वीडियो में दिखाई दे रहा है कि शो के दौरान हैंडलर मगरमच्छ के मुंह में हाथ डालता है, इस दौरान जानवर हाथ पकड़ने की कोशिश करते है






कि लेकिन हैंडलर तेजी से हाथ खींच लेता है। वह मगरमच्छ के जबड़े में फंसने से बच जाता है।







इसके बाद हैंडलर आगे करतब दिखाते हुए मगरमच्छ के मुंह में एक छड़ डाल देता है, लेकिन मगरमच्छ कुछ नहीं करता है। हैंडलर द्वारा लगातार इस तरह के करतब दिखाए जाते हैं। 





आखिर में हैंडलर मगरमच्छ के मुंह में हाथ डालता है। उसे शायद अंदाजा भी नहीं होगा कि मगरमच्छ गुस्से में उसका हाथ पकड़ लेगा। मगरमच्छ अचानक से उसके हाथ को अपने जबड़ों के बीच दबा लेता है।










हैंडलर लगातार छूटने की कोशिश करता है, लेकिन वह निकल नहीं पाता। मगमच्छ हैंडलर के हाथ को पूरी तरह मुंह से झकझोर देता है। यह देखकर वहां मौजूद लोग हैरान रह जाते हैं।





दर्शकों के बीच चीख-पुकार मच जाती है। इस दौरान मगरमच्छ हैंडलर के हाथों को मुंह में दबाकर दो हिस्सों में कर देता है।






गौरतलब है कि इस तरह का मामला कुछ दिन पहले की थाईलैंड में सामने आया था। यहां एक हैंडलर मगरमच्छ के साथ शो दिखा रहा था। इस दौरान मगरमच्छ ने उसका हाथ पकड़ लिया था। इस हादसे में उसका हाथ में चोट आई थी। हाल ही में एक महिला को भी मगरमच्छ के साथ सेल्फी लेना भारी पड़ गया था। मगमच्छ ने महिला का पैर अपने जबड़े में दबा लिया था।



Read More »