Search This Website

Showing posts with label Gods. Show all posts
Showing posts with label Gods. Show all posts

Sunday, January 28, 2018

बीयर की बोतलों से बना है ये अनोखा मंदिर, जानें और क्या है खासियत

  बीयर की बोतलों से बना है ये अनोखा मंदिर, जानें और क्या है खासियत



आज हम आपको थाईलैंड में बने एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी खूबसूरती को देख हर कोई हैरान है। 














आप अभी तक कई मंदिरों में जा चुके होंगे। लेकिन शायद ही आपने कहीं बीयर की बोतल से बनीं हुई मंदिर को देखा होगा।







 दरअसल, भगवान बुद्ध के इस मंदिर का निर्माण बौद्ध भिक्षुओं ने 1984 में किया था। बीयर की खाली बोतलों से बने इस मंदिर वहां आने वाले लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। 













इस मंदिर को बनाने में सिर्फ और सिर्फ बीयर की खाली बोतलों का प्रयोग किया गया है।








 इस अनोखे मंदिर को देखने के लिए दूर-दूर से भारी संख्या में लोग आते हैं। 




  इसे भी पढ़ें :-   दुनिया का सबसे महंगा जूता, कीमत इनती की खरीद सकते हैं कई BMW कार









बताया जाता है कि इस मंदिर को बनवाने में करीब दस लाख खाली बीयर की बोतलों का इस्तेमाल किया गया है। 








सिस्टा प्रांत में स्थित इस मंदिर की खूबसूरती देखते ही बनती है। इस मंदिर का नाम वाट प महा चेदि खेव(Wat Pa Maha Chedi Kaew ) है।














इस मंदिर के सभी कोनो को हरे और भूरे रंग से सजाया गया है जो इसकी खूबसूरती को और निखारने का काम करती है। 








इन बोतलों को देखकर आपके मन में ये ख्याल भी जरूर आएगा कि दुनिया में ऐसी कोई चीज नहीं है जिसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।











इतना ही नहीं इस मंदिर का बाथरूम भी बियर की बोतलों से तैयार किया गया है। हरे और भूरे कांच की बोतलों से यह मंदिर अपनी कलाकारी के लिए लोगों के बीच मिसाल बना हुआ है और टूरिस्ट लोगों की यहां भीड़ लगी रहती है।





Read More »

Friday, January 19, 2018

रामायण- किस व्यक्ति से कैसी बातें नहीं करनी चाहिए

 रामायण- किस व्यक्ति से कैसी बातें नहीं करनी चाहिए






रामायण में जब हनुमानजी ने खोज के बाद श्रीराम को बताया कि सीता माता रावण की लंका में हैं तो श्रीराम अपनी वानर सेना के साथ दक्षिण क्षेत्र में समुद्र किनारे पहुंच गए थे। 













उन्हें समुद्र पार करके लंका पहुंचना था। श्रीराम ने समुद्र से प्रार्थना की कि वह वानर सेना को लंका तक पहुंचने के लिए मार्ग दें, लेकिन समुद्र ने श्रीराम के आग्रह को नहीं माना और इस प्रकार तीन दिन बीत गए। तीन दिन के बाद 



                  Open this link :- अब रोज पाये facebook group पर "मेरा देश India" की all (news)








बोलेराम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति।


इस दोहे का अर्थ यह है कि श्रीराम क्रोधित होकर लक्ष्मण से कहते हैं भय बिना प्रीति नहीं होती है यानी बिना डर दिखाए कोई भी हमारा काम नहीं करता है।











लछिमनबान सरासन आनू। सोषौं बारिधि बिसिख कृसानू।।
सठसन बिनय कुटिल सन प्रीती। सहज कृपन सन सुंदर नीती।


इन दोहे में श्रीराम ने लक्ष्मण को बताया है कि किस व्यक्ति से कैसी बात न करें। जानिए इस दोहे का अर्थ.









मूर्खयानी जड़ बुद्धि वाले व्यक्ति से न करें प्रार्थना


श्रीराम लक्ष्मण से कहते हैं- हे लक्ष्मण। धनुष-बाण लेकर आओ, मैं अग्नि बाण से समुद्र को सूखा डालता हूं। 









किसी मूर्ख से विनय की बात नहीं करना चाहिए। कोई भी मूर्ख व्यक्ति दूसरों के आग्रह या प्रार्थना को समझता नहीं है, क्योंकि वह जड़ बुद्धि होता है। 








मूर्ख लोगों को डराकर ही उनसे काम करवाया जा सकता है।











कुटिलके साथ न करें प्रेम से बात



श्रीराम लक्ष्मण से कहते हैं कि जो व्यक्ति कुटिल स्वभाव वाला होता है, उससे प्रेम पूर्वक बात नहीं करना चाहिए। कुटिल व्यक्ति प्रेम के लायक नहीं होते हैं। 






ऐसे लोग सदैव दूसरों को कष्ट देने का ही प्रयास करते हैं। ये लोग स्वभाव से बेईमान होते हैं, भरोसेमंद नहीं होते हैं। अपने स्वार्थ के लिए दूसरों को संकट में डाल सकते हैं। अत: कुटिल व्यक्ति से प्रेम पूर्वक बात नहीं करना चाहिए।









कंजूससे न करें दान की बात


जो लोग स्वभाव से ही कंजूस हैं, धन के लोभी हैं, उनसे उदारता की, किसी की मदद करने की, दान करने की बात नहीं करना चाहिए। कंजूस व्यक्ति किसी भी परिस्थिति में धन का दान नहीं कर सकता है। कंजूस से ऐसी बात करने पर हमारा ही समय व्यर्थ होगा।




Read More »

Wednesday, December 27, 2017

2018 आने से पहले घर में करें ये 8 बदलाव, पूरे साल प्रसन्न रहेगी महालक्ष्मी

2018 आने से पहले घर में करें ये 8 बदलाव, पूरे साल प्रसन्न रहेगी महालक्ष्मी





कुछ ही दिनों के बाद नया साल 2018 शुरू होने वाला है। नए साल आपने साथ नई एनर्जी और अवसर लेकर आता है। ऐसे में इस मौके का फायदा उठाकर वास्तु की मदद से अपने दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदला जा सकता है। अगर आप चाहते हैं कि आने वाला साल आपके लिए बेहद सौभाग्यशाली हो और आपका घर ही आपकी किस्मत को चमकाने में आपकी मदद करें तो हम आपको बताते हैं कुछ ऐसे आसान वास्तु टिप्स जो आपके लिए लाभदायक हो सकते हैं।










घर-दुकान का मेन गेट


सबसे पहले ध्यान दें घर के दरवाजे पर। नए साल में कहीं ऐसा ना हो कि भाग्य आपके दरवाजे से आकर ही वापस चला जाए। घर-दुकान में सौभाग्य बढ़ाने के लिए दरवाजे पर ऊं, स्वस्तिक या श्री का निशान बनाएं।








घर लाए लाफिंग बुद्धा


नए साल में किस्मत चमकाने का एक और आसान उपाय है लाफिंग बुद्धा। घर की उत्तर पूर्व दिशा में लाफिंग बुद्धा की मूर्ति या तस्वीर लगाने से कई लाभ मिलते हैं।














घर-दुकान में करवाए पेंट


अगर आप दीपावली के मौके पर घर-दुकान को पेंट नहीं करावा पाए हैं तो नए साल पर जरूर करवाएं। वास्तु अनुसार घर-दुकान में नीला, सफेद, पीला, हरा रंग का प्रयोग शुभ होता है।






लगाएं इनमें से कोई 1 पौधा


अपने घर या दुकान में नए साल में मनी प्लांट, बैम्बू या तुलसी का पौधा लगाएं। ऐसा करना दुर्भाग्य खत्म करने में मदद करता है और शुभ अवसरों को बढ़ाता है।












इन्हें करें घर-दुकान से बाहर


नए साल में पुराने कबाड़े या खराब सामान को घर-दुकान से बाहर निकाल दें, खासकर उत्तर दिशा में अगर कोई बेकार वस्तु हो तो। उत्तर दिशा धन और भाग्य वृद्धि के लिए बेहद अहम होती है।








घर-दुकान में रखें एक्वेरियम


नए साल में घर-दुकान को एक्वेरियम से सजाएं। एक्वेरियम को उत्तर-पूर्व दिशा में रखना बेहद शुभ होता है। इसमें कुछ गोल्डन यानि सुनहरे रंग की मछलियां और एक काले रंग की मछली रखनी चाहिए।












घर-दुकान का मंदिर


नए साल में अपने घर या दुकान के मंदिर पर भी विशेष ध्यान दें। मंदिर किचन या बाथरुम के पास नहीं होना चाहिए। वास्तु अनुसार मंदिर पश्चिम दिशा में रखना शुभ होता है।









इस बात का भी रखें खास ख्याल


घर या दुकान की सफाई सूरज डूब जाने के बाद बिल्कुल भी न करें। यदि सूर्यास्त के बाद झाड़ू-पोछा किया जाता है तो लक्ष्मीजी नाराज होती हैं और पैसों की समस्या हो सकती है।




Read More »

Sunday, December 24, 2017

इस तरह से प्लान करें अपनी क्रिसमस पार्टी

 इस तरह से प्लान करें अपनी क्रिसमस पार्टी


हर एक इंसान के लिए काफी उत्सुक रहता है, लेकिन ज्यादातर विशेषकर क्रिसमस पार्टीज ऐसी घटना है जो छुट्टियों को मनाने के लिए लोगों को एक साथ लाती है |











अपनी वेकेशन पार्टी की योजना बनाते समय, अपने निमंत्रणों को बहुत सारे नोटिस के साथ भेजना सुनिश्चित करें.






खासकर यदि आप क्रिसमस की पूर्व संध्या या दिसंबर के किसी सप्ताह के अंत में अपने आयोजन की योजना बना रहे हैं. जल्दी योजना बनाएं क्योंकि छुट्टियां ज्यादातर लोगों के लिए एक व्यस्त समय है|











दिनांक को चिह्नित करें.

आपकी पार्टी के लिए सही तिथि चुनना महत्वपूर्ण है. आप किसी की छुट्टी की योजना के साथ संघर्ष नहीं करना चाहते हैं.






अतिथि सूची बनाएं.

उन लोगों की एक सूची बनाएं जिन्हें आप आमंत्रित करना चाहते हैं. मनोदशा के आधार पर, आप करीबी मित्र और परिवार को आमंत्रित कर सकते हैं.










 सुनिश्चित करें कि आपका बजट और स्थल आपके द्वारा तय किए गए लोगों की संख्या को संभाल सके.






एक स्थल खोजें.

अगर आपकी पार्टी घर पर होगी, तो आप सभी तैयार हैं, लेकिन यदि आप किसी रेस्तरां या अन्य जगह पर अपना आयोजन होस्ट करना चाहते हैं तो विलंब से बचने के लिए बहुत समय के साथ अंतरिक्ष को सुरक्षित रखना सुनिश्चित करें. 











अपने आमंत्रण भेजें.

समय से पहले ही आप अपने निमंत्रण भेजदें, इसी में भलाई है. चूंकि ज्यादातर लोगों के लिए अवकाश एक व्यस्त समय है, इसलिए आप अपने क्रिसमस पार्टी निमंत्रण को जल्द से जल्द भेजना चाहेंगे, क्योंकि आपके पास एक तारीख और स्थल की योजना है.









अपने मेनू की योजना बनाएं और बजट सेट. अगर आप सब कुछ इंतेज़ाम करने से सक्षम हैं तो आगे बढ़ें और अपने मेनू की योजना बनाएं.





Read More »